उल्टी रोकने के घरेलू उपाय

उल्टी रोकने के घरेलू उपाय

260
0
SHARE

अमाशय की मांसपेशी के आक्षेपिक संकुचन से भोजन पदार्थ का वेग से मुख के मार्ग से निकलना उल्टी या वमन कहलाता है।उल्टी होना शरीर से विषाक्त पदार्थ निकालने की एक शारीरिक प्रक्रिया है, मगर कभी-कभी शरीर में संक्रमण होने से कुछ भी खाने-पीने से उल्टी होने लगती है।कुछ लोग तो अपना पेट साफ रखने के लिए हफ्ते या दो हफ्ते में एक बार सुबह खाली पेट नमक पानी पीकर जानबूझकर उल्टी करते है, जो एक तरह से शरीर के लिए लाभदायक होता है।वैसे तो उल्टी होना एक आम बात है लेकिन इससे शरीर कमजोर हो जाता है और इंसान थकान महसूस करता है।यदि व्यक्ति को जरुरत से ज्यादा उल्टी आती है, तब बात गंभीर हो सकती है।चाहे बच्चे, जवान या वयस्क व्यक्ति हो, किसी को भी उल्टी की समस्या हो सकती हैं।उल्टी या वमन होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे :

  • विषाक्त खान-पान के कारण उल्टी हो सकती है।
  • अत्यधिक तनाव के कारण व्यक्ति खाने-पीने का ध्यान नहीं रखता, जिससे उल्टी होने की संभावना होती है।
  • अधिक समय तक खाली पेट रहने से अम्लता हो जाती है जिसके कारण उल्टी हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में खाना खाने से खाद्य ठीक से नहीं पचता, जिसके कारण उल्टी हो सकती है।
  • ज्यादा शराब पीने से उल्टी होती है।
  • बस या गाड़ी में बहुत देर तक सफ़र करने से भी उल्टी की समस्या हो सकती है।
  • गर्भावस्था में उल्टी हो सकती है, जो एक आम बात है
  • किसी संक्रमण (Infection) के कारण उल्टी हो सकती है।
  • शरीर में पानी की कमी के कारण भी उल्टी हो सकती है।
  • अत्यधिक गर्मी के कारण भी उल्टी हो सकती है।

उल्टी से बचने या उसे रोकने के लिए घरेलू नुस्खें

Ginger-Root-Benefits

  1. अदरक : अदरक पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और इसके उपयोग से उल्टी को रोका जा सकता है।उल्टी की समस्या होने पर एक चम्मच अदरक के रस में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से उल्टी की समस्या में फर्क पड़ता है।इसके अलावा अदरक वाली चाय में शहद मिलाकर पीना भी असरदार है या फिर अदरक का एक छोटा-सा टुकड़ा मुँह में लेकर चबाने से भी उल्टी में फर्क पड़ता है।
  2. चावल का स्टार्च (Starch) : यदि अत्यधिक गैस की वजह से उल्टी हो रही होतो ऐसे में सफेद चावल का स्टार्च बहुत फायदेमंद है।चावल का स्टार्च बनाना कोई बहुत मुश्किल कार्य नहीं है।लगभग हर किसी के घर में चावल पकता है।चावल पकने के बाद जिस पानी को छानकर फेंक दिया जाता है, वही पानी स्टार्च है जो उल्टियों में लाभदायक होता है। चावल पकने के बाद पके हुए चावल के पानी को एक बर्तन में छान लें।अब उसमें स्वाद अनुसार नमक डालकर उसका सेवन करने से उल्टी में राहत मिलती है।
  3. लौंग : लौंग अम्लता जैसी समस्या को दूर रखकर पाचन तंत्र को सही रखता है। दो से तीन लौंग मुँह में डालकर चबाने से उल्टी की समस्या नहीं रहती। इसके अतिरिक्त लौंग को गर्म तवे पर थोड़ा सेंक लें, फिर उसे दरदरा पीसकर शहद के साथभी उसका सेवन कर सकते है या फिर लौंग की चाय बनाकर भी पी सकते है। इन सभी तरीकों से लौंग का सेवन करने से उल्टी होना बंद हो जायेगी और आराम मिलेगा।
  4. दालचीनी : कभी-कभी पाचन तंत्र के बिगड़ने से भी उल्टी होती है, ऐसे में दालचीनी बहुत लाभदायक है।एक मध्यम आकर के बर्तन में एक कपपानी डालकर उसे उबालें, अब उस उबलते हुए पानी एक चम्मच दालचीनी का चूर्ण या चार से पाँच साबुत दालचीनी डालकर आँच को बंद कर दें, और बर्तन को थोड़ी देर के लिए ढक दें, ताकि दालचीनी अच्छे से पानी में घुल जाए।इसके बाद उस पानी को छान लें और उसमें थोड़ी-सी शहद मिलाकर उसका सेवन करें।इससे उल्टी बंद हो जायेगी, पर इस बात का जरुर ध्यान रखें कि यह नुस्खे का प्रयोग कोई गर्भवती महिला बिल्कुल न करें, इससे गर्भ को नुकसान पहुँच सकता है।
  5. पुदीना : पेट खराब होने पर खाद्य ठीक से नहीं पचता और वो उल्टी के रूप में बाहर निकल जाता है, ऐसे में पुदीना बहुत ही फायदेमंद है।पेट के खराब होने पर होने वाली उल्टी से पुदीना राहत दिलाती है। एक मध्यमआकर के बर्तन में एक कप पानी डालकर उबालें, फिर उसमें एक चम्मच सूखे पुदीने के पत्तियां डालकर आँच बंद करके बर्तन को ढककर पाँच से दस मिनट तक रहने दें।फिर उस पानी को छानकर पीने से उल्टी में राहत मिलेगी।इसके अलावा आप कुछ ताजे पुदीने के पत्ते भी चबाकर खा सकते हैं, इससे भी उल्टी में फर्क पड़ता है. इसके अतिरिक्त आप पुदीने के पत्तों का रस, नींबू का रस और शहद को बराबर मात्रा में मिलाकर भी उसका सेवन कर सकते हैं। दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करने से उल्टी बंद हो जाती है।
  6. सौंफ : सौंफ हमारे पाचन तंत्र को सही रखता है।सौंफ में जीवाणु प्रतिरोधक गुण है जो उल्टी होने से रोकती है। एक कप उबलते हुए पानी में एक चम्मच पीसी हुई सौंफ मिलाकर आँच बंद कर दें और दस मिनट तक उस पानी को ढककर रखें, फिर उस पानी को छानकर दिन में दो बार पीने से उल्टी नहीं होगी। इसके अलावा आप सौंफ को ऐसे ही मुँह में डालकर चबायेंगे तो उल्टी नहीं होगी।
  7. नमक और शक्कर का घोल :लगातार उल्टियाँ होने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे और भी ज्यादा उल्टियाँ होने लगती हैं।ऐसे में नमक और चीनी का घोल बनाकर पीने से फायदा मिलता है। एक गिलास पानी में एक चम्मच चीनी और एक चुटकी नमक मिलाकर घोल तैयार करें।इस घोल को थोड़ा-थोड़ा करके दिन में पाँच से छै बार पीने से उल्टियाँ होना बंद हो जायेगी और आपको जल्द ही राहत मिलेगी।
  8. इलायची : जरुरत से ज्यादा खाना खाने से अम्लता हो जाती है जिससे उल्टी हो सकती है, ऐसे में दो हरी इलायची चबाकर खाने से अम्लता ठीक हो जायेगी, साथ ही यह अपच खाने को भी पचाने में मदद करती है जिससे पेट की समस्या नहीं होती और उल्टी भी नहीं आती।
  9. नींबू पानी : उल्टी में नींबू का पानी बहत ही असरदार होता है।एक गिलास पानी में एक नींबू का रस मिलाएं, फिर उसमें थोड़ी-सी मात्रा में शक्कर और चीनी मिलकर पीयें, इससे उल्टी बंद हो जायेगी और आपको आराम मिलेगा।
  • जीरा : जीरा रसोईघर में उपलब्ध एक आम मसाला है, लेकिन इसके कई सारे गुणों में से एक गुण है उल्टी को रोकना। जीरा के सेवन से पाचन से जुड़ी हर तकलीफ दूर हो जाती है। आधा कप गुनगुने पानी में आधा चम्मच जीरा पाउडर डालकर पीने से उल्टी में फर्क पड़ता है।इसके अलावा एक चम्मच शहद में आधा चम्मच इलायची और आधा चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर लेने से उल्टी में तुरंत राहत मिलती है।
  • प्याज का रस : प्याज में प्रतिजीवाणु गुण है जो उल्टी होने से रोकती है।एक चम्मच प्याज के रस में एक चम्मच पीसा हुआ अदरक मिलाकर एक मिश्रण तैयार करें और थोड़ी-थोड़ी देर में इस मिश्रण को लेते रहें, इसके सेवन से उल्टी नहीं होगी।इसके अलावा आधा कप प्याज के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर, थोड़ी-थोड़ी देर में एक चम्मच करके इस मिश्रण का सेवन करने से उल्टी में राहत मिलेगी।
  1. लहसुन : किसी-किसी को बस या गाड़ी से यात्रा करने के दौरान उल्टी आती है, ऐसे में लहसुन बहुत ही फायदेमंद है।यात्रा के दौरान आने वाली उल्टी को रोकने के लिए लहसुन की दो कलियाँ चबायें, इससे उल्टी आना बंद हो जायेगी और आपको राहत भी मिलेगी।
  • गन्ने का रस : गर्मी के कारण होने वाली उल्टी के लिए गन्ने का रस बहुत असरदार है। एक गिलास ठन्डे गन्ने के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से उल्टी बंद जाती है।गन्ने का रस पेट को ठंडा रखता है और शहद पाचन तंत्र को ठीक रखता है।
  • संतरा : साबुत संतरा या संतरे का रस उल्टी को आने से रोकती है।यदि आपको लगे कि उल्टी आने वाली है तो आप एक साबुत संतरा खा सकते हैं या संतरे का रस भी पी सकते हैं।इसके अलावा दो ग्राम संतरे के सूखे छिलके का चूर्ण शहद में मिलाकर लेने से भी उल्टी आनी तुरंत बंद हो जाती है।
  • तुलसी : उल्टी में तुलसी भी बहुत असरदार है। एक चम्मच तुलसी के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर लेने से उल्टी बंद हो जाती है और जी मिचलाना भी ठीक हो जाता है।
  • धनिया : धनिया के उपयोग से उल्टी को रोकना एक कारगर उपाय है।12 ग्राम या तीन चम्मच धनिया के चूर्ण और एक चम्मच मिश्री को 250 लीटर पानी में एक घंटे के लिए भिगो दें। फिर उस पानी को छानकर पीने से उल्टी आनी बंद हो जाती है। आप इसे बच्चों, बड़ों या फिर गर्भवती महिलाओं को भी पिला सकते हैं।बच्चों की उल्टी बंद करने के लिए इसी पेय को एक घंटे के अन्तराल में एक छोटी चम्मच (चाय चम्मच)की मात्रा में पिला सकते हैं और बड़ें हर घंटे इसी पेय का सेवन 30 ग्राम की मात्रा में कर सकते हैं।इसके सेवन से उल्टी के दौरान चक्कर आना, सिर दर्द करना, दिल धड़कना आदि समस्याएं भी ठीक हो जाती हैं।

coriander_seeds_16x9

उपर्युक्त घरेलू नुस्खों को अपनाकर उल्टी जैसी समस्या से बचा जा सकता है।लेकिन इन नुस्खों को अपनाकर भी यदि उल्टी आनी बंद न हो तो आपको तुरंत किसी चिकित्सक से अपना इलाज करवाना चाहिए।कुछ मामलों को छोड़कर कुछेक बातों का ध्यान रखने से उल्टी की समस्या नहीं होती, जैसे :

  • ज्यादा मसालेदार, तेल युक्त और बाहर का खाना नहीं खाना चाहिए, इससे पाचन तंत्र बिगड़ जाता है।
  • शराब से परहेज करें क्योंकि इसके सेवन से भी पाचन तंत्र प्रभावित होता है।
  • अधिक समय तक खाली पेट न रहें और ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें।
  • संक्रमण के कारण होने वाली उल्टी के मामलों में डॉक्टर से जांच करवाएं।
  • मानसिक तनाव और चिंता से जितना हो सके दूर रहें।
loading...

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY