Whatsapp Sad Love Status in Hindi

0

Whatsapp status:- टूटे रिश्तों से मिले ज़ख्मो से उबरना बहुत आसान काम नहीं है। लम्बे समय तक अपने साथी के साथ रहते हुए आपकी जीवन शैली में कई बदलाव आ चुके होते हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि किसी को छोड़ देने कि अपेक्षा किसी के द्वारा छोड़ दिया जाना अधिक पीड़ादायक होता है। आपके सम्मान को गहरी ठेस पहुँचती है। वैसे टूटे हुई रिश्ते दोनों सूरत में मुश्किल ही होते हैं।इस बारे में सोचना सामान्य है। लेकिन इस सोच में डूब जाना आपको इस मुश्किल से बाहर नहीं निकलने देगा। अपनी गलतियों और अपने अतीत से सीखना अच्छी बात है। इस सोच से बाहर निकलना मुश्किल है लेकिन पूरे मन से प्रयास कीजिये और अपने दिमाग को दूसरी और लगाइये। धयन रहे कि आपका असल उद्देश्य इस सब से बाहर निकल कर फिर से सामान्य होना ही है।

मेरी आँखों में
छुपी उदासी को महसूस तो कर..
हम वह हैं जो सब को हंसा कर रात भर रोते है…!!

वो भी आधी रात
को निकलता है और मैं भी….!
फिर क्यों लोग उसे “चाँद” और
मुझे “आवारा” कहते है….!!

सामान बांध लिया है मैंने अपना अब
बताओ..
कहाँ रहते हैं वो लोग जो कहीं के नहीं रहते..

कुछ उनकी मजबुरीयां, कुछ मेरी कश्मकश
बस युँ ही एक खूबसूरत कहानी को खत्म कर
दिया हमने..!!

मै अक्सर अपनी पेंसिल की नोक तोड़
दिया करता था ।
क्लास मेँ शार्पनर लाने वाली वो अकेली लड़की थी

तेरे दिल तक पहुँचे मेरे लिखे हर लब्ज…!
बस इसी मकसद से मेरे हाथ कलम पकड़ते है…!!

रात की तन्हाई में तो हर कोई याद कर लेता है…

                                                     सुबह उठते ही जो याद आए मोहब्बत उसे कहते हैं…!!! 💞

आजकल तो धूप भी मोहल्ले की सबसे
खूबसूरत लड़की जैसी हो गई है …..
दिखती कम है .
और जब दिखती है तो सारा मोहल्ला बाहर निकल
आता है

अपने किस-किस राज़ को बेपर्दा करूँ दोस्त ?
जिस उम्र मेँ अक्ल आती है . .
उस उम्र मेँ हम मुहब्बत कर बैठ

काश कहीं से मिल जाते वो अलफाज मुझे भी,

                                                 जो तुझे बता सकता की मै शायर कम तेरा दीवाना ज्यादा हूं……!!

इश्क की पतंगे उडाना छोड़ दी,,,
वरना हर हसीनाओं की छत पर हमारे ही धागे होते

पहचान कफन से नही होती है दोस्तों..!!


लाश के पीछे काफिला बयाँ कर देता है
रुतबा किसी हस्ती का है …!!

ऐ समन्दर मैं तुझसे वाकिफ हूं मगर इतना बताता हूं,
वो आंखें तुझसे ज्यादा गहरी हैं जिनका मैं आशिक हूं..!!

नाम तो लिख दूँ उसका अपनी हर शायरी के
साथ…..

मगर फिर ख्याल आता है, मासूम है , कहीं बदनाम
ना हों जाये

आज तक एसी कोई
रानी नही बनी जो इस बादशाह
को अपना गुलाम बना सके

इस दुनिया मे कोई किसी का हमदर्द नहीं होता
लोग ज़नाजे के साथ भी होते हैं!
तो सिर्फ अपनी हाजिरी गिनवाने के लिए!!!!

हमारी नियत का पता तुम क्या लगाओगे गालिब….
हम तो नर्सरी में थे तब भी मैडम
अपना पल्लू
सही रखती थी…।

नमक’ की तरह हो गयी है जिंदगी…
लोग ‘स्वादानुसार’ इस्तेमाल कर लेते हैं…!!!

जब बिखरेगा इंतज़ार में ज़मीन पर तेरी आँख का आँसू,

एहसास तुझे तब होगा मोहब्बत किसको कहते हैं!..

यार कोइ मुकदमा ही कर दो हमारे
बेवफा सनम पर..
कम से कम हर पेशी पर यार ए हुस्न का दिदार
तो हो जायेगा . .

जो मिलते हैं वो बिछड़ते भी हैं ”साहिब”हम नादान
थे …!!
कुछ मुलाकातो को जिंदगी समझ बैठे !!

खाने को ग़म, पीने को आंसू, बिछाने को चाहें, ढकने
को आहें ..
शायर की झोपडी में किस चीज़ की कमी है ?

अजीब पैमाना है यहाँ शायरी की परख का,
जिसका जितना दर्द बुरा,
शायरी उतनी ही अच्छी !!!!!!!!!

ईश्वर आज अवकाश पर है
मंदिर की घंटी ना बजाइये…
जो बैठा है बूढ़ा अकेला पार्क में,
उसके साथ समय बिताइये.

फ़क़त ख्वाबो से
ही नहीं मिलता सुकून सोने
का यारो
किसी की याद में
रात भर जागने का भी अपना मज़ा है


किसी की याद में
रात भर जागने का भी अपना मज़ा है

love status for whatsapp in hindi,whatsapp status in hindi funny,whatsapp status quotes in hindi,whatsapp status hindi attitude,whatsapp status in one line,cool status for whatsapp,whatsapp status sad,whatsapp status english
whatsapp status,cool whatsapp status,whatsapp status funny,whatsapp status love,whatsapp status quotes
whatsapp status ideas,symbols status whatsapp,cool status,funny whatsapp status message.

Zindagi ki har khwahish puri nahi hoti,
Sirf umid se har cheez hasil nahi hoti,
Sach hai dil ki lagi khabhi nahi bujhti,
Par gam se pehle khushi kabhi nahi milti……………………@

Yeh Yaad Hai Tumhari,
Ya Yaadoon Mein Tum Ho.

Yeh Khwaab Hai Tumhare,
Ya Khwaaboon Mein Tum Ho.

Hum Nahi Jaante,
Humein Bus Itna Batado.

Hum Jaan Hai Tumhari,
Ya Hamari Jaan Tum Ho……………………@

मिलना इतिफाक था, बिछड़ना नसीब था;
वो उतना ही दूर चला गया, जितना वो करीब था;
हम उसको देखने के लिए तरसते रहे;
जिस शख्स की हथेली पर हमारा नसीब था।……………………@

Hum dosti kar farz yunhi ada karte rahenge,
waqt bewaqt aapko hasate aur satate rahenge,
dua karo yunhi threads post karte rahen hum,
warna yaad banke yunhi sabko rulate rahenge hum……………………@

Dil se roye magar hothon se muskura baithe,
yunhi hum wafa nibha baithe,
woh hume ek lamha na de paye apne pyar ka,
Aur unke liye hum apni zindigi luta baithe……………………@

Meri zindagi ke raaz mein ek raaz tum bhi ho
Meri bandagi ki aas mein ek aas tum bhi ho
Tum kya ho mere, kuchh ho ya kuchh bhi nahi magar
Meri zindagi ke kash mein ek kash tum bhi ho……………………@

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा,
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा,
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला,
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा…………………….@

Kisi aur ki bahon mein rehkar
woh Humse wafa ki baat karte hai
Yeh kaisi chahat hai yaro
woh bewafa hai yeh jaankar bhi
Hum ussi se bepanah pyar karte hai……………………@


Ishq Wahi Hai Jo Ho Ek Tarfa,
Izhaar-E-ishq To Khwahish Ban Jaati Hai,
Hai Agar Ishq To Aankho Me Dekho,
Zuban Kholne Se Ye Numaish Ban Jaati Hai……………………@

Kitni Aasani Se Wo Thukra Gaye Muze.
Aansu Bana Ke Aankh Se Tapka Gaye Muze.
Kaisa Ye Pyar, Kaisa Fareb Tha,
Manzil Dikha K Jo Rah Se Bhatka Gaye Muze……………………@

Zindgi Me Kabhi Use Chain Na Ayega,
Tanhai ka Andhera Use Har Pal Satayega,
Jab Kabhi Usse Krega koi Bewafai,
Tab Use Mera Pyar Yaad Ayega……………………@

Socha Na Tha Kbhi Aisi Dosti Hogi
Sath Mere Aap Jaisi Hasti Hogi
Jannat Ki Galiyo K Khwab Q Dekhu
Agr Hum Sare Dost Sath Honge,
To Nark Me Bhi Masti Hogi……………………@


Har subha ho haseen tunhari,
aur din chandni ho,
aap k kadmo pe rakhdun yeh sari khushiyan
agar ek pal k liye b aap humare sath ho……………………@

Izhar Mohabbat Ka Kuch Ese Hua,
Kya Kahe In Pyaar Kaise Hua,
Unki Ek Jhalk Pe Neesar Hue Ham,
Saadgi Mein Marmite Or Aankho Se Ikraar Hua……………………@

Gham Mein Hasne Walon Ko Rulaya Nahi Jata,
Lehron Se Pani Ko Hataya Nahi Jata,
Honay Wale Ho Jate Hain Khud He Apne,
Kisi Ko Keh Kar Apna Banaya Nahi Jata……………………@

Mohabbat ne aaj hamko rula diya,
Jis par marte rahe usi ne bhula diya..
hum to unki yaad me aasu pite gaye..
unhone ek din aansuo me bhi zeher mila diya……………………@

Teri Ulfat Kabhi Nakaam Na Hone Denge.
Teri Dosti Kabhi Badnaam Na Hone Denge.
Meri Zindgi Me Suraj Nikle Na Nikle.
Teri Zindgi Me Kabhi Shaam Na Hone Denge……………………@

Dost Ko Dost Ka Ishara Yad Reheta Hai,
Har Dost Ko Apna Dostana Yad Reheta Hai,
Kuch Pal Sachhe Dost K Sath To Gujaro,
Wo Afsana Maut Tak Yaad Reheta Hai……………………@

Rone Ki Saza Na Rulane Ki
Saza Hai, Ye Dard Mohabat Ko
Nibhane Ki Saza Hai, Haste
Hai To Aankhon Se Nikal
Aate Hai Aansu, Ye Us Shaks
Se Dil Lagane Ki Saza Hai……………………@

Pahli Nazar Mai Hi Unse Pyar Ho Gya..
Usne Kuch Kahunga Ye Sochata Hi Rah Gya.
Jab Aai Bari Pyar Ka Izhar Karne Ki.
Tab Tak Unke Dil Par Kisi Aur
Ke Pyar Ka Jadu Chal Gya……………………@

Is dil ka kaha maano ek kaam kar do,
Ek be-naam si mohabbat mere naam kar do,

Meri zaat par faqat itna ehsan kar do,
Kisi din subha ko milo aur shaam kar do……………………@

चढ़ा है जब से इश्क का स्वाद जबां पे,
अल्फाज खुद ब खुद शायरी में बदलने लगे है……………………@

Wo mujh par azeeb asar rakhti hai,
mere adhure dil ki khabar rakhti hai.
Shayad mein use bhool jata,
magar apne pyar ko vo mere dil me basaye rakti hai……………………@

Ek Ajnabi Se Baat Kya Ki
Qayamat Ho Gayi,
Sare Shaher Ko Is Chahat Ki
Khabar Ho Gayi,
Kyun Na Dosh Du Dil-E-Nadan Ko,
Dosti Ka Irada Tha Aur
Mohabbat Ho Gayi……………………@

dard jitna saha jaye utna hi sehna
kisike dil ko lag jaye woh baat na kehna
milte hain hamare jaise log bahut kam
isliye hamse kabhi alvida naa kehna……………………@

Jaise Taron Ke Sath Aakash Hai,
Waise Sache Dosti Ke Sath Vishvas Hai,
Dil Ki Nazron Se Dekhoge Agar,
Hum Har Waqkt Aapke Pass Hai……………………@


Itna pyaar paya hai aap se,
Uss se zyada pane ko jee chahta hai,
Najane woh kaun si khobi hai aap mein,
Ki aap se dosti nibhane ko jee chahta hai……………………@

Socha Na Tha Kbhi Aisi Dosti Hogi
Sath Mere Aap Jaisi Hasti Hogi
Jannat Ki Galiyo K Khwab Q Dekhu
Agr Hum Sare Dost Sath Honge,
To Nark Me Bhi Masti Hogi……………………@

Uske Dil Me Sirf Thodi Jagah,
Mangi Thi Ek Musafir Ki Tarah.
Or Us Nadaan Ne Tanhai Ka,
Ek Sheher Hi Mere Nam Kar Diya……………………@

Intezaar to bahut tha hamein,
Lekin aaye na woh kabhi.
Ham to bin bulaaye hi aa jate,
Agar hota unhe bhi intezaar kabhi……………………@

Labo ki hasi tere naam kar denge,
Har khushi tujhpe kurban kar denge,
Jis din lage mere dosti me kami to batana,
Ai dost zindagi ko maut ke naam kar denge……………………@


Mohabbat Ke Sapney Wo Dikhaatay Bahut Hain..
Raaton Main Wo Hum Ko Jagaatay Bahut Hain..
Main Aankhon Main Kaajal Lagaaun To Kaise..
In Aankho Ko Log Rulaatay Bahut Hain……………………@


You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.